• Tue. Jan 31st, 2023

चिपियाना बुजुर्ग गांव मैं महामारी जो रुकने का नाम नहीं ले रही है

Byadmin

Feb 17, 2021

जनपद गाजियाबाद ( उत्तर प्रदेश ) :- चिपियाना बुजुर्ग गांव मैं महामारी जो रुकने का नाम नहीं ले रही है मौत का तालाब अपने गिरफ्त में बच्चों को लोगों को पशु पक्षियों को अपनी कोख में समा रहा है वह तालाब जो चिपयाना गांव का कोड बन चुका है कई बार बड़े बड़े अधिकारियों से शिकायत करने के बाद भी कुछ नहीं होता सांसद विधायक अन्य बड़े बड़े लोग मौके पर पहुंचे लेकिन आश्वासन देकर सभी अपने क्षेत्र लौट जाते हैं

चिपयाना गांव में वह दुर्गति है कूड़े का अंबार बदबू का अंबार लाशों का व्यापार लास्ट क्यों कभी कोई बच्चा उस तालाब में गिर जाता है तो पता नहीं चलता जब बच्चे की मृत्यु हो जाती है वह फूल कर ऊपर आता है तब पता चलता है कि बच्चा खत्म हो गया कोई जानवर उसमें गिर जाता है तो उसका मृत शरीर ही निकल कर बाहर आता है कुछ समय पहले एक बाइक सवार कब गिरा पूरे गांव को नहीं पता लेकिन जब तालाब की सफाई कराई गई तब बाइक और कंकाल गांव वालों को मिला तो उसमें कितनी लाशें दफन है

कोई नहीं इसकी गिनती लगा सकता उस पर क्यों राजनीतिक पार्टियां बैठकर चर्चा नहीं करती हैं क्यों चिपयाना गांव में यह दुर्गति फैली हुई है क्यों सफाई नहीं हो रही है पूरा गांव जाना चाहता है राकेश शर्मा ने कहा कि इस गांव की वह दुर्गति हो चुकी है क्योंकि कोई यहां इस तालाब के किनारे अगर लोहे के तार लग जाते हैं यादों की दीवार खड़ी कर दी जाए तो शायद यहां पर मौतों का व्यापार कम हो जाए कब तक प्रशासन करेगा इस पर कार्यवाही क्या राजनीतिक पार्टियां सकेंगी इस चर्चा पर रोटियां या इस गांव में यह कोड फैलता ही चला जाएगा