• Fri. Feb 3rd, 2023

मात्र कागजों में ही स्वच्छ हो रही है शहर की एक मात्र हिंडन नदी

Byadmin

Mar 5, 2021

गाजियाबाद :- जहां एक तरफ गाजियाबाद नगर निगम स्वच्छता अभियान के तहत लगातार नंबर वन पर आने के बड़े-बड़े दावे कर रहा है वहीं दूसरी तरफ गाजियाबाद की एकमात्र नदी जो अब नाले के रूप में शुमार हो चुकी है को देखने वाला कोई नहीं है गाजियाबाद की एकमात्र हिंडन नदी जो उत्तराखंड से होते हुए गाजियाबाद नोएडा के रास्ते वापस गंगा में जाकर मिल जाती है की हालत बद से बदतर होती जा रही है बीते कुछ दिन पहले नमामि गंगे के नाम से एक बड़ा अभियान चलाया गया है जिसमें पूरे देश के अलग-अलग राज्यों में नदियों को युद्ध स्तर पर साफ करने का कार्य किया गया मगर गाजियाबाद के हिंडन नदी पर अभियान मात्र एक छलावे के रूप में दिखाई दे रहा है

जहां स्वच्छता के नाम पर करोड़ों रुपए गाजियाबाद में खर्च किए जा रहे हैं वही गाजियाबाद की एकमात्र हिंडन नदी स्वच्छता के नाम पर सिर्फ एक नाला बन कर रह गई है गाजियाबाद में सबसे बड़ा त्यौहार छठ पूजा को लेकर नगर निगम के द्वारा हिंडन नदी के पानी को स्वच्छ करने के बड़े-बड़े दावे किए जाते हैं मगर छठ निकलने के बाद ही नदी वैसे ही दोबारा नाले के रूप में विकसित हो जाती है

वही गाजियाबाद की मेयर आशा शर्मा व नगर आयुक्त महेंद्र सिंह तंवर के द्वारा हिंडन नदी में फैक्ट्रियों के आने वाले गंदे पानी को लेकर फैक्ट्रियों पर कड़े शब्दों में निंदा करते हुए कार्रवाई की बात की गई थी और जब अगर इन फैक्ट्री और कंपनी पर कार्रवाई हुई है तो हिंडन नदी का पानी गंदा आखिर कहां से आ रहा है या नगर निगम के द्वारा दिए गए आदेशों की मात्र कागजों में ही जगह है धरातल पर इस पर देखा जाए तो हालात विपरीत दिशा में है अब देखना यह होगा कि गाजियाबाद के प्रशासन इस हिंडन नदी को स्वच्छ करने में कितना सफल हो पाता है या फिर हिंडन नदी ऐसे ही गंदे नाले में शुमार होते हुए 1 दिन खत्म हो जाएगी