• Tue. Jan 31st, 2023

18 जिलों की मिट्टी से किसान लेंगे संकल्प// ट्रैक्टर रैली

Byadmin

Mar 6, 2021

बिजनौर ( उत्तर प्रदेश ) :- वेस्ट यूपी से आज कृषि बिल के विरोध में भाकियू की ट्रैक्टर रैली की शुरुआत की गई है । मुजफरनगर जिले के रामराज गुरुद्वारे से किसान ट्रेक्टर रैली की शुरुआत भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने हरी झंडी दिखाकर की है । भारी संख्या में किसान ट्रैक्टर रैली में शामिल हुए । बिजनोर बैराज जिले की सीमा पर भारी पुलिस बल तैनात किया गया है

दरअसल यह पूरा मामला वेस्ट यूपी का है जहां तीनो कृषि कानून के विरोध में भाकियू लगातार जगह जगह धरने प्रदर्शन और किसान पंचायते कर रही है। लेकिन केंद्र सरकार किसानों के सामने झुकने को कतई तैयार नही है । किसान भी जिद पर अड़े है कि जब तक कृषि कानून वापिस नही होंगे तब तक हम भी सरकार को चैन से नही बैठने देंगे। भाकियू ने पहले ही घोषणा कर दी थी कि आज यानी 6 मार्च को किसान ट्रेक्टर रैली निकलेंगी । इसी कड़ी में आज मुजफरनगर जिले के रामराज गुरुद्वारे से किसान ट्रेक्टर रैली की शुरुआत भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने हरी झंडी दिखाकर की है ।

भारी संख्या में किसान ट्रैक्टर रैली में शामिल होकर बिजनौर पहुंचे । बिजनौर बैराज जिले की सीमा पर भारी पुलिस बल तैनात किया गया है । बीते कल शाम ही बिजनौर जिले के पुलिस अधीक्षक डॉक्टर धर्मवीर सिंह ने जिले में लगी धारा 144 का हवाला देते हुए प्रेस नोट रिलीज किया था कि जिले में किसानों की ट्रेक्टर रैली को नही निकलने दिया जाएगा। और आज सुबह से ही बैराज बार्डर पर जिले भर का पुलिस बल तैनात कर रखा है । पुलिस के साथ पीएसी भी मौजूद है । लेकिन बिजनौर बैराज पर किसान ट्रेक्टर रैली पहुंची और पुलिस से कोई टकराव की स्थिति नही बनी ।पुलिस ने किसानों के ट्रेक्टर को आराम से जाने दिया ।

किसान ट्रेक्टर रैली में तमाम भाकियू के बड़े नेता मौजद रहे । साथ ही साथ भाकियू युवा के प्रदेश अध्यक्ष दिगम्बर सिंह भी मौजूद रहे । किसान नेताओ का कहना है कि ये किसान,मजदूर जाग्रति यात्रा है वेस्ट यूपी और उत्तराखंड के 18 जिलों से होकर गुजरेगी । हम 18 जिलो की मिट्टी लेकर 27 मार्च को गाजीपुर बार्डर पर पहुंचेंगे । हम इस मिट्टी से संकल्प लेंगे कि ये भारत हमारा है ।हर जिले से मिट्टी लेकर संकल्प लेगे किसान ।सैकड़ों की संख्या में बिजनोर पहुचे किसान ।27 मार्च को किसान ट्रैक्टर लेकर दिल्ली गाज़ीपुर बॉर्डर पहुंचेंगे किसान । अब बात कृषि बिल की नही रही अब बात भारत की संस्कृति बचाने की है । स्पेन जैसे देश ने MSP पर कानून बना दिया लेकिन कृषि प्रधान देश भारत कानून नही बना रहा ।